मेरे अंकल ने मेरे सामने मेरे माँ और बहन को बेदर्दी से चोदा

दोस्तों, ये महाचुदास से भरी कहानी मैं आपको नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुना रहा हूँ. मेरा नाम पप्पू है. ये कहानी उस समय की है जब मैं कोई १२ साल का रहा हूँगा. मेरे पापा श्री जगदम्बा पाल कहीं किसी यात्रा पर गए थे और फिर कभी नही लौट के आये. उसके बाद से मेरे माँ और सबलोग पापा को मरा समझ बौठे क्यूंकि पापा कभी नही लौट के आये. उसके बाद से ही मेरी जवान २७ वर्षीय माँ मेरे रिसभ अंकल से फस गयी थी. और उनसे चुदवाने लगी थी. मैं उस वक़्त १० १२ साल का था इसलिए चुदाई का मतलब नही जानता था. पर जब रोज रोज रात को मम्मी रिसभ अंकल के कमरे में जाती और सुबह निकलती तो मुझे शक होने लगा.

एक रात मुझे बड़ी भूख लगी थी. मैं कोई १२ बजे रात में जग गया था. जब मैंने अपने आस पास देखा तो मुझे माँ कहीं ही दिखाई दी. मेरे बगल मेरी जवान कड़क माल बहन लेती सो रही थी. उसके दूध मुझे उसके सूट से साफ साफ़ दिख रहे थे. पर फिलहाल मैंने अपनी माँ को ढूँढ के उसने खाना माँगना चाहता था. मैं दरवाजे पर पंहुचा तो कुंडी खुली थी. इसका मतलब मेरी माँ कहीं बाहिर गयी थी. मैं माँ माँ पुकारता हुआ बाहर गया तो कहीं माँ नही दिखाई दी. मेरे रिसभ अंकल के कमरे की बत्ती जल रही थी.

वो आई ऐ एस की तयारी करते है. मैं सोचा की सायद अंकल रात में पढ़ रहे होंगे. मैंने छोटे छोटे कदमों से अंकल के कमरे की तरह बढ़ने लगा. वहां से अजीब अजीब आवाज आ रही थी. मैं ध्यान से रात के सन्नाटे में आवाज सुन रहा था. फाड़ दो !! देवर जी !! इस जालिम बुर को आज फाड़के रख दो!! ये गर्म चूत मुझे एक पल भी नही सुकून से जीने देती है. बार बार कहती है मुझसे जाओ किसी मर्द का लौड़ा ढूँढ कर लाऊ और मुझे चोदो!! इसलिए देवर जी आज आप इस बुर को इतना फाड़ दो की दुबारा ये मुझे तंग ना करे!!’ दोस्तों इस तरह गर्म गर्म चीखने चिल्लाने की आवाजे मैंने सुनी तो मैं सोच में पड़ गया.

क्यूंकि मैं नही जानता था की इन सब बातों का क्या मतलब होता है. क्यूंकि मैं एक १० १२ साल का अबोध बालक था. जब मैं रिशभ अंकल के कमरे पर पंहुचा तो खिड़की से मेरी नजर अंदर गयी. मेरी माँ बिलकुल नंगी थी. जिस तरह मैं बचपन में उसके दूध पीता था. रिसभ अंकल बिलकुल उसी तरह मेरी माँ के मम्मे मुँह में भरके पी रहे थे. मैं कुछ समझ नही पाया. रिसभ अंकल तो इतने बड़े है. वो तो आदमी है. रोटी और दाल चावल खाते है, फिर आखिर क्यूँ उनको मेरी माँ के दूध पीने की जरुरत पड गयी.

दूध तो वो लोग पीते है जिनके मुँह में दांत नही होते, फिर रिसभ अंकल को मेरी माँ के मस्त मस्त ३६ साइज़ के दूध पीने की जरूरत क्यूँ पड़ी. दोस्तों, मैंने भी सोच लिया की ये सारा राज मैं पता लगाकर रहूँगा. मैं वही छुपकर अपनी माँ की सारी चुदाईलीला देखने लगा. मेरी माँ बार बार अंकल से बोल रही थी ‘देवर जी !! जोर जोर से चोदिये ना!! ये क्या जवानी में आप इतने धीरे धीरे धक्के मार रहे है. अभी तो आपकी शादी भी नही हुई. इससे तेज तेज तो मुझे आपके बड़े भैया चोदते थे!!…इसलिए प्लीस आप मुझे जोर जोर से पेलिए!!’ मेरी आवारा माँ किसी रांड की तरह बोल रही थी.

उनके मुँह से बार बार चोदने और पेलने की बात सुनकर मैं समझ गया की ये जो हो रहा है उसी को चुदाई कहते है. फिर रिशभ अंकल ने माँ के दोनों मस्त मस्त मम्मे पीने के बाद मेरी माँ के दोनों टांग खोल दिए जैसी मेरी आवारा माँ कोई बच्चा पैदा करने वाली है. रिसभ अंकल का लौड़ा सचमुच किसी हाथी के लौड़े जितना बड़ा था. दोस्तों, मैं छोटा जरुर था पर लंड तो पहचान ही लेता था. गाय, भैस और बैल का लंड मैंने अपनी साइंस की किताबों में देखा था. इसलिए मैं लंड को अच्छे से पहचानता था. रिसभ अंकल ने मेरी माँ के दोनों टांग किसी छिनाल की तरह खोल दिए. अपना विशाल लौड़ा माँ के भोसड़े में डाल दिया और माँ को जोर जोर से चोदने लगे.

जब वो जोर जोर से माँ की बुर फाड़ने और फोड़ने लगे तो माँ के मम्मे बेकाबू हो गये और इधर उधर मचलने और हिलने लगे. रिसभ अंकल मेरी माँ को किसी देसी छिनाल या रंडी की तरह चोद रहे थे. क्यूंकि माँ भी उनसे इसी तरह गालियाँ दे देकर चोदने का निवेदन कर रही थी. रिसभ अंकल ‘ले रंडी !! ले लम्बा लम्बा खीरा !! मैं अच्छी तरह जानता हूँ की तेरी बुर में खाज है. जब तक तू चुदवा नही लेगी मेरे कमरे से नही भागेगी…छिनाल !! मादरचोद !!! पति से चुदवा चुदवाकर तेरा दिल नही भरा तो रंडी देवर से लौड़ा खाने आ गयी !! ले हरामिन ले!!’ रिसभ अंकल बोले और उन्होंने ८ १० झापड़ मेरी माँ के के गाल पर ताड़ ताड़ जड़ दिए. मैं खिड़की से छुपकर उनदोनों को देख रहा था. मेरा अंकल माँ को मार मार के चोद रहे थे. मैं सोच में पड गया की हाई अल्ला !! ये कैसी चुदाई है. चूत भी लो और मारो भी. मेरी माँ का गाल मार खा खाकर लाल हो गया.

फिर भी वो नही रोई और दोनों टाँगे किसी कुतिया की तरह फैलाकर मजे से चुदवाती रही. मैं सकते में आ गया. मेरे रिशभ अंकल जोर जोर से मेरी माँ की चूत में धक्का मार रहे है. मैं तो सोच रहा था कहीं माँ चुदवाते चुदवाते मर मरा ना जाए. मेरे अंकल जोर जोर से माँ मेरी माँ के बड़े मुलायम मुलायम दूध को बेदर्दी से हाथ से मसल रहा था जैसे लोग अपनी बीबी के दूध बेदर्दी से मसलते है. वो पूरा मजा मारते हुए मेरी माँ को पौन घंटे तक ठोकते रहे. फिर अचानक उन्होंने अपना लंड माँ के भोसड़े से बाहर निकाल लिया और राम जाने पता नही कौन सा चिप चिपा पदार्थ अंकल से लौड़े से निकला और सीधा माँ के मुँह और गोल गोल खूबसूरत मम्मो पर जाकर गिरा.

मेरी माँ से अंकल का सारा माल पी लिया. दोस्तों कहाँ मैं गया था माँ से खाना मांगने और कहाँ अपनी सगी माँ को रिशभ अंकल से चुदते मैं देख लिया. मैं उस समय सिर्फ १० साल का था पर फिर भी पता नही कैसे मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरी भूख गायब हो गयी. मैं अंदर कमरे में आ गया. अपनी जवान बड़ी बहन को चोदने का मेरा मन करने लगा. पर मैं सिर्फ १० साल का था. आखिर कैसे अपनी दीदी को चोद पाता. वो तो १८ साल की जवान सामान थी. अगले दिन फिर ऐसा हुआ. आज भी मेरी आँख १२, साढे १२ बजा के आसपास खुल गयी. मेरे बगल मेरी माँ जो हमेशा मेरे साथ सोती थी. वो नही थी. मैंने समझ गया की जरुर वो रिशभ अंकल से ठुकवाने गयी होगी. जब मैंने गया तो अंकल मेरी कोई आई ऐ एस की पढाई नही कर रहे थे. हाँ मेरी माँ को चोदने में वो जरुर आई ऐ एस का कोर्से कर रहे थे.

मैंने अपनी इन्ही आँखों ने देखा की माँ ना जाने किस आसन में थी. आज तो हद ही हो गयी थी. रिशभ अंकल मेरी माँ को खड़े खड़े ही चोद रहे थे. मैंने तो कभी सोचा भी नही था की खड़े खड़े भी कोई मर्द किसी औरत को भांज सकता है. रिशभ अंकल मेरी माँ के पीछे खड़े से. माँ को उन्होंने एक टेबल पर हल्का सा झुका रखा था. पीछे से गपा गप माँ की बुर में लौड़ा दे रहे थे. मेरी चुदासी आवारा माँ के दोनों आम ठीक उसी तरह हिल रहे थे जैसे आंधी चलने पर पेड़ में लगे आम जोर जोर से हिलते है.

अंकल ने मेरी माँ की छोटी किसी छिनाल बाजारू रंडी की तरह पकड़ रखी थी. अंकल तरह तरह की बुरी बुरी गालियाँ मेरी माँ को दे रहे थे. माँ गालियाँ भी मजे से सुन रही थी और अंकल को चूत भी ले रही थी. सायद उसको इस सब में खूब मजा मिल रहा था. रिशभ अंकल फिर आगे अपने हाथ करके माँ के दूध पकड़ लेते थे. और जोर जोर से माँ की काले घेरे के बीच स्तिथ निपल्स को हाथ से ऐठने लग जाते थे. मेरी माँ को ऐसा करने पर सायद जन्नत का सुख मिल रहा था. वो किसी रांड की तरह अपनी निपल्स को ऐठवा रही थी और पीछे से चुदवा रही थी. रिशभ अंकल का लौड़ा तो किसी मशीन की माँ को को बड़ी जल्दी जल्दी चोद रहा था.

लग रहा था जैसे कोई साइकिल चल रही हो. दोस्तों जब मैंने ये सब देखा तो मेरा लंड भी खड़ा हो गया. कुछ देर बाद अंकल ने माँ के भोसड़े में ही माल छोड़ दिया. ‘देवर जी !! आपसे चुदकर मेरा जीवन धन्य हो गया. अगर आप ना होते तो पता नही क्या होता. आपके बड़े भैया के मरने के बाद कौन मुझे चोद चोदकर सुख देता!!’ मेरी माँ ने कहा ‘भाभी आपको मैंने इतना चोदा है. इतना मजा दिया है. आपने कहा था की आप मुझे इनाम देंगी !! अपनी जवान लडकी शेफाली को चोदने को देंगी!…प्लीस भाभी शेफाली की बुर दिला दीजिये!!’ रिशभ अंकल माँ से गुजारिश करने लगी. ‘ठीक है देवर जी !! आपको आपका इनाम जरुर मिलेगा!! मैं अभी शेफाली को बुलाकर लाती हूँ. आज ही आप मेरी बेटी की कुवारी चूत लीजिये!!’ मेरी माँ ने कहा. वो मेरे कमरे में आने लगी. मैंने जल्दी से आकर अपने कमरे में आकर झूठ मुठ सो गया.

मेरी माँ आई और मेरी बहन को उठाने लगी. “ शेफाली!! बेटी तू रोज कहती थी ना तेरा चुदने का मन है. चल आज तुझे मैं चुदवा देती हूँ…चल उठ बेटी!!’ मेरी माँ बोली. वो शेफाली को अपने साथ ले गयी. मैं फिर से जाग गया और अपनी बहन शेफाली को चुदते देखने के लिए फिर से रिशभ अंकल के कमरे में चला गया. मेरी आवारा छिनाल माँ ने मेरी बहन शेफाली के सारे कपड़े निकलवा दिए थे. मेरे रिशभ अंकल अपने लौड़े में तेल लगाकर धार दे रहे थे. वो लौड़े को हाथ से फेट रहे थे.

जब अंकल ने मेरी जवान बहन को नंगी देखा तो मचल गए. ‘भाभी जान !! मेरी भतीजी तो अब जवान हो गयी है. अब इसकी बुर के लिए बाहर से क्या लंड का इंतजाम करना आज ही इसे चोद देता हूँ!!’ अंकल बोले. उन्होंने मेरी जवान १८ साल की बहन को बाहों में भर लिया और चूमने चाटने लग गये. धीरे धीरे मेरी बहन शेफाली भी गर्म हो गयी. वो भी मेरे अंकल का लौड़ा खाना चाहती थी.

रिसभ अंकल ने मेरी जवान बहन के दूध पीना शुरू कर दिया. मैंने फिरसे उनके कमरे की खिड़की से चिपक गया था. मेरी बहन बहुत गजब की माल थी. मैं खिड़की के पास छिपकर सब देख रहा था. मेरे अंकल बहन के दूध बड़ी देर तक पीते रहे. उससे इश्क लड़ाते रहे. फिर वो शेफाली की बुर पीने लगे. उनको ना जाने उसकी बुर पीने में कौन सा मजा मिल रहा था. वो जीभ निकाल निकाल कर मेरी बहन की चूत पीने लगे. मेरी बहन शेफाली बिलकुल कुवारी थी. अभी तक वो अनचुदी थी. आज अंकल ही उसके भोसड़े का उदघाटन करने वाले थे.

जैसे ही रिसभ अंकल ने शेफाली के भोसड़े में अपना लोहे जैसे गर्म लौदा डाल दिया, शेफाली की माँ चुद गयी. वो नही नही कहने लगी. पर मेरे अंकल को तो हर हाल में शेफाली की चूत मारनी थी. उन्होंने शेफाली का दर्द नही देखा बस कमर हिला हिलकर उस बेचारी नादान लडकी को लेते रहे. शेफाली दर्द से छटपटाती रही. चाचा उसको चोदने का मजा लेते रहे. जब कुछ देर बाद चाचा ने अपना माल शेफाली की बुर में ही छोड़ दिया और जब लौड़ा निकाला तो उनका लौड़ा खून से रंग हुआ था. ऐसा लग रहा था की उनका लौड़ा कहीं से खून की होली खेल कर आया है. मेरी बहन शेफाली की बुर में चीरा लग चूका था. मेरी नई नई जवान हुई बहन चुद चुकी थी.

रिसभ चाचा ने कुछ देर बाद फिर से मेरी बहन के दोनों टांग खोल दी और फिर से उसकी बुर में लौड़ा दे दिया. और मजे से कमर चला चला के मेरी बहन शेफाली को पेलने लगे. कुछ देर शेफाली का दर्द गायब हो गया और वो कमर उठा उठाकर चुदवाने लगी. उसकी कमर बड़े नशीले तरह से गोल गोल नाच रही थी. रिसभ अंकल उसकी उसी तरह से ले रहे थे जैसे मेरी माँ को लेते थे. उनका पूरा बदन शेफाली पर आ गया था. शेफाली उनके लौड़े की एक एक हरकत पर नाच रही थी. कहना गलत नही होगा की जिस तरह वो गर्म गर्म सासें अपने मुँह और नाक से निकाल रही थी उसको भी चुदवाने में बहुत मजा मिल रहा था. उसे भी जन्नत मिल रही थी.

चाचा हपर हपर करके उसको ताकत से ठोकते रहे. वो चुदती रही. उसके बाद रिसभ अंकल ने शेफाली को करवट दिया दी और स्पून विधि से बहन की चूत लेने लगा. मैं बाहर खड़ा होकर सारे काण्ड देख रहा था. कुछ देर बाद रिसभ अंकल शेफाली की लाल चूत में ही झड गये. आपको ये कहानी किसी लगी, अपनी कमेंट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर दें.

Hindi Sex Story

Sex Stories, Hindi Sex Stories, Sex Story, Hindi Sex Story, Indian Sex Story, chudai, desi sex, sex hindi story, Marathi Sex Story, Urdu Sex Story, पढ़िए रोजाना नई सेक्स कहानियां हिंदी में अन्तर्वासना सेक्स और इंडियन हिंदी सेक्स कहानी हॉट और सेक्सी सेक्स कहानी, Sex story, hindi story, sex kahaniyan, chudai ki kahani, sex kahaniya



hotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaold man sex storiesWww.chudai.kamseen.ki.chikhe.ganv.ki.kameen.chut.ki.hindi.kahani.xxxxमाँ ने बेटेसे चोदके लिया/%E0%A4%AE%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%8B-%E0%A4%97%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B2%E0%A4%AB%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%A1-%E0%A4%AC%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%95/Sex stories बेटेने अपनी विधवा माँ का जबरदस्ती माँ बनाया sex ,comrandhi ma ki chuodhi dakhi saxy kahaniyawww हिन्दी जमाई सास कथा सेकस.comnewsexstory com hindi sex stories E0 A4 B8 E0 A5 87 E0 A4 95 E0 A5 8D E0 A4 B8 E0 A5 80 E0 A4 B8 E0sax kahaniya maa ka anchalApni bhatigi ke satha xxx kahaniपापा के सात मिलकर ममी की चुत और गाड फाडीकामुकता डौट कम बहन कौ पटा के चौदाचोदाई के संकसिसंभोग कथा मराठीपारिवारिक चुदाई नानी को गर्भवती किया मैनेchachi aur unkikuwari beti ki chut fadiमामी झवा झवी कथाखेत में चोद चोदन डाट काम कहानियाँholi me pela peli ki kahaniलङको ने लङकी की सुहागरात मे चोली खोलना सेकस करनाnokarani pase ke chakar xxxx hdभाई मुझे खूब पेलोBude aadmi se chut marbane ka majaSAS SEX PAGE 10 DZUDO63.RUएक दिन खुशी दुकान पे आयी और बोली पेलो स्टोरChuddai nyty me buaa ki videoBhai bhan sexnase me storidibali me cudane ki kahaniबिधाव आँटी पडने वाला चुदाईबहन ने अपने भाई को च** चटा कर अपनी गर्मी शांत कीनंगी मेरी जान कितनी चिकनी जबान है तेरीBete ka birthday per maa ke saath Bete ki suhagraat hot story load in maa ka baltkaar bete ne kiya story www.nonvegstory.comsexykahani of bro and sister of nonvegAsfalt32.ruDec xxxbf maahotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaNooveg pela peli chutkuleWed masti det com xxx sexey suhagrat desi hindi stori kahani diwalie me chudai Sexx father ne kiya kahneeBhai ne apni choti behan birthday gift sex kiya real kahani hindiबुआ के बुर चोदा बाबा नेचुदक्ड दादी पोतीसगी मा को बेटेsex कहानीचुदाईरक्षाबंधनsagi chachi ki chudaiकॉलेज gangbag सेक्स stoeyहाट सेकसी कहानी बङे भयानक लंड से चूदीmummy ne mujhe papa se apne samne pelvaya antarvasna.comdibali me cudane ki kahaniबायकोच दुध चुसना चुदाईमरीज से चुदीमेरी चिकनी गांड़ को पकड़कर उसनेगुरुप चूदाई कहानीठाकुर के रखेल की चोदाइ काहानीWwwxxxhidikahanisexx vidio sas ko chodagali .comaunty ki gand aur bur choda ladkey ney चुदाई मसत गाङ कि गनदि बाते गाङ का भरताकरवाचौथ चुत चोदायीbahina zavale storymausi aur uski beti dono ki chudai antrvasna xxx storysNONVEJSTORY.COM PATINE CHUT KA PANI PIYA STORY HINDIMEकुंवारी लड़की की च**** प्यारी के जोर जबस्तीअन्तर्वासना फ्रेंड की वाइफ पड़नीBirthday pr maa ny gift diya chudai khaniफ्रेंडशिप डे की चुदाईबुर चाटने का देशी सेकसी विडियोkamsin student aur guruji kee chudai kalanakarani majuburi ka codaiपति.पतनि.XXXBP