बंधक बनाकर शौच आयी औरत का जबरन चोदा और बूर फाड़ दिया

ये घटना पिछले साल की है। मैं और सत्यम अपने गांव में थे। वहां हमारी 40 बीघा जमीन पर गेहूं बोया जाना था। हम दोनों भाई गांव के मकान में टिके हुए थे। हम मजदूरों से काम करा रहे थे। उस दिसम्बर के दिनों में बड़ी ठंड पड़ रही थी। बाहर जाते ही कुल्फी जम जाती थी। पर गेंहू की फसल तो बोनी ही थी। पानी को छूने पर लगता था कि हाथ कट गया हो। खैर किसी तरह हम दोनों भाइयों ने उस दिन काम करवाया।

बहुत ठंड होने से एक तू मुतास बार बार लग रही थी। दूसरे लण्ड बार बार यही कह रहा था कि काश कोई चूत , कोई छेद मिल जाता। अब रात होने को आयी थी। हम दोनों हमारे खेत में ही बने झोपडी वाले घर में थे। शाम के 6 बजे होंगे पर लगता था रात हो गयी है। मैं मफलर बांधकर मूतने निकला। फिर भी कान एक सेकंड में बर्फ से जम गये। मैंने मूतते हुए बीड़ी सुलगायी। मैंने इधर उधर सर घुमा के देखा। ठंड इतनी ज्यादा थी की कही कोई जुगनू, कोई झींगुर,कोई गिलहरी नही दिख रही थी। कोई कोई पीला बल्ब भी नही दिख रहा था।

आप तो जानते ही है कि गांव में बिजली नही होती है। कहीं कोई रौशनी नही दिख रही थी। मैं खुद अपने छप्पर वाले घर में मिट्टी के तेल से चलने वाली लालटेन इस्तेमाल कर रहा था। मैंने आखरी बार धार छोड़ी तो और ठंड से काँप गया। मैं मुतकर मुड़ा की इतने में खेत में किसी के होने का अंदेशा हुआ। मैं सोच कहीं सांड या मावेसी मेरा गेहूं ना खा जाए।
कौन है रे मेरे खेत में !! मैंने आवाज ही।
मैदान आई हूँ! एक लेडीज आवाज आई।

अरे ये तो कोई औरत या लड़की है! मैंने कहा। मैं भाग कर अंदर गया।
भाई! लड़की चोदनी है?? मैने पूछा
कहाँ?? सत्यम ने पूछा।
खेत में हगने आयी है! मैंने कहा
हम दोनों छिपकर गये और उस औरत को पकड़ लिया। गांव की ही औरत थी। हम दोनों ने उसे कस के पकड़ लिया। मैंने मुँह में रुमाल बान्ध दिया और अपने झोपडी में ले आये। वो विरोध करने लगी। मैंने उनको कई थप्पड़ लगाये। 2 3 मुक्के तो पेट में मार दिए। मैं उस दिन के लिए शैतान बन गया था। पेट में मुक्के मारने ने वो ढेर हो गयी। हम लोगो ने उसके हाथ भी बांध दिए थे।

वो जमीन पर ढेर हो गयी। पेट पकड़ कर रोने लगी। मैंने छप्पर में ठुकी खूंटी से लालटेन उतारी और उन औरत के पास लाया। बाप रे!! क्या गठा हुआ गोरा चेहरा, बड़ी बड़ी पूरी की तरह फूली दूधदार छातियाँ।
भाई आज तो मेरे लण्ड को गर्मी मिल जाएगी! उसे अकेले में ठंड में नही सोना पड़ेगा। मैंने सत्यम से कहा। मेरा भाई सत्यम भी चुदासा हो गया। कितने महीनो से हम दोनों भाइयों ने चूत नही मारी थी। 3 महीने पहले हम लोग बनारस के शिवदासपुर में रंडी चोदके आये थे। तब से हम दोनों भाइयों के लण्ड ने कोई छेद नही देखा था। आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे है

चाहे मुझे 14 साल की जेल ही क्यों ना हो जाए! पर मैं इस औरत को पेलूंगा जरूर मैंने सत्यम से कहा।
उस शौच आयी औरत को मैंने उठाया और बिछी चारपाई पर पटक दिया। लालटेन की पीली रौशनी में मैंने देखा रो रोकर उसका बुरा हाल था। छोड़ दो मुझे भगवान के लिए! छोड़ दो! वो रुमाल बन्द मुँह से बराबर चीखे जा रही थी। पर उसकी आवाज सिर्फ झोपडी में ही सुनाई दे रही थी।
तेरी तो मैं चूत मारकर रहूँगा! मैंने उस शादी शुदा औरत से कहा।
इससे पहले मैं जब कभी गांव जाता था तो यहाँ के घरों की सारी जवान औरते नयी बहुवे हाथ भर भरके चूड़ी पहनती थी, चाँदी की मोटी मोटी पायल पहनती थी। ज्यादातर जवान मालदार चुच्चे वाली औरते गांव की कच्ची सड़कों पर बैठकर ही चूड़ी और पायल हिला हिलाकर कड़ाई और बर्तन ईंट से घिसती थी। उस वक़्त वो बड़ी सेक्सी लगती थी। जमीन पर बैठके बर्तन मांजने से उसकी विशाल दुधभरी छातियां हर राहगीर देख लेता था। उसे भी कुछ घण्टों के लिए सुकून मिलता था।

इसके बाद जरूर पढ़ें  राजधानी एक्सप्रेस में चुदाई भाभी की

बस तभी से ख्वाहिश थी की किसी गाँव की गवारिन लेकिन मालदार औरत को कास एक बार चोदने खाने को मिलता। सायद आज ये छिपी ख्वाहिश पूरी होने वाली थी।
ऐ छिनार!! देख हम दोनों भाइयों को चुप चाप चूत दे दे! हम तुझे सुबह जाने देंगे, वरना हम इस झोपकी में ये लालटेन फोड़ के आग लगा देेंगे और भाग जाएंगे। तू इसी में जलकर मर जाएगी!! मैंने कहा

वो शादी शुदा पर गजब की मालदार औरत फिर से विरोध् करने लगी। अपने बंधे हुए हाथ पैर चलाने लगी!
इसी झोपकी में जलकर मर!! सत्यम ने लालटेन उतारी और जमीन पर फेकने लगा! वो औरत काँप गयी और हाँ में ऊपर नीचे सिर हिलाने लगी। मैंने सत्यम को इशारा किया झोपड़ी में आग ना लगाने का। उस ने लालटेन फिर से खूटी में टांग दी।

मैंने ठण्ड में कपड़े निकाल दिए। बर्फ सी कुल्फी जमी जा रही थी। पर गर्म चूत मिलेगी, इससे राहत थी। मैंने उस जवान मालदार और फूली फूली पूड़ी की तरह दुधदार छतियों वाली औरत के पैर खोल दिए चोदने नोचने के लिए। उसके हाथ और मुँह को बंधे रहने दिया।। मैं जुगाड़ से उसका स्वेटर, ब्लॉउज़ निकाल दिया। कोई ब्रा नही। सायद गांव की गवारिन ब्रा व्रा नही पहनती है।
मैंने उसकी सारी , पेटीकोट निकल दिया। कोई पैंटी, चड्डी नही। मेरे मुहँ में पानी भर आया। मैं पुरानी चरमराती चारपाई पर उस शौच आयी औरत को लिटा कर उसपर लेट गया। भर भरके उसकी फूली फूली छातियां पीने लगा। वो औरत रोई जा रही थी।
रो मत! तुजे भी मजा आएगा!! चुदाई में आदमी औरत दोनों को मजा मिलता है!! मैंने कहा

रो रोकर छिनाल के आँशु उसके मुँहपर बिखर गये थे। मैंने उसके ओंठ पिने लगा तो नमकीन आँशु मेरे मुँह में चले गए। मैं एक चमाट जड़ दिया।
चुप चाप चोदने खाने दे राण्ड!! वरना तुझको इसी झोपड़ी में जला दूँगा! मैंने गरजकर कहा।
वो रोना बन्द कर दी। मैं उसके गाढ़ी लिपस्टिक लगी होंठ चूसने लगा। क्या गोरा गोरा मुख था। मैं उसके नमकीन आशुओं को पीने लगा। क्या बोलती आँखे थी, मस्त सामान था। मैं अपनी औरत मान के उसके होंठ पीने लगा।

फिर नीचे बढ़ा, छतियों को पीने लगा। उसकी काली काली उठी हुई निप्पल्स को मैंने छेड़ते हुए कई बार अपने दाँत गड़ा के काट लिया। सर्द में मर्द से उसे दर्द मिला। वो चिहुँक गयी। मैं गोल गोल मुँह चलाकर उसकी दुधभरी छतियों को गोल गोल मुँह चलाते हुए पीने लगा। वो शान्त हो गयी। मुझे लगा की उसके मर्द से अच्छी मैं उसकी छातियां पी रहा हूँ। मैंने पहली छाती खूब देर पी। फिर दूसरी छाती मुँह में लगा ली और दांत गड़ा गड़ाकर गोल गोल मुँह चलाकर उसकी दूसरी छाती पीने लगा।

कहाँ से एक मछली मेरे खेत में हगने आ गयी?? ऊपरवाले तू महान है! मैंने भगवान को धन्यवाद किया। मैंने मजे से उसके दूध पीने में मग्न हो गया सत्यतम ऐसी गर्म चुदाई देख के बेकाबू हो गया। कपड़े उतार के हरामी मुठ मारने लगा।
ओए सत्यम!! अबे मुठ मार लेगा तो इस मछली को कैसे पेलेगा?? मैंने पूछा
भैया मैं पेल लूंगा! सत्यम बोला और पीछे मुँह करके झोपडी की दिवार की तरफ मुँह करके मुठ मार रहा था।

इसके बाद जरूर पढ़ें  चुदाई का मज़ा भी और पैसे भी मेरी तो बल्ले बल्ले

मैंने उस शौच आयी औरत की मस्त फूली फूली छतियों को पीना जारी रखा। जैसे ही छाती हाथों से दबोटता और छोड़ता फिर से फूल जाती। मुझे प्यार आ गया, उस औरत की इस अदा पर। मैं अब उसके पेट को चाटने लगा। गाँव की गोरियों को खाने पीने की कोई कमी नही होती है। गेहूं, चावल , दाले सब उनके खेतों में उगता है इसलिए गोरियाँ खूब पेल पेलकर खाती है। सायद इसीलिए उस हसींन औरत का पेट बड़ा मांसल था, थोड़ी चर्बी ऊपर ही ओर उठी हुई थी। मन हुआ की चाकू से चर्बी काटकर खा जाऊ। मैं उसके पेट की चर्बी को हल्के हल्के दांतो ने पकड़कर काटने चबाने लगा।

वो औरत चरमराती हुई मेरी जर्जर चारपाई पर उछल गई। मैं उसकी योनि स्थल की ओर बढ़ चला। बाप रे!! इतना बड़ा भोसड़ा!! मैंने कहा। खूब बड़ी से हल्की झांटोदार कजरारी गदरायी चूत। लंबे लंबे बुर की फाकें, कसी गाण्ड। मैं कुछ देर उस मस्त औरत के बुर के दर्शन करता रहा। ईस्वर की बनावट को देखता, उसकी प्रशंसा करता रहा। मैंने उँगलियों से चूत के दोनों पट खोले। आँहा! मांसल लाल गुलाबी दानेदार चूत के दर्शन हुए। थोड़ा और खोला तो गोल गोल रिंगवाला छेद के दर्शन हुआ। मैंने बढ़कर छेद में अपनी झीब डाल दी।

वो शादी शुदा औरत मचल गयी। मैं उसके चूत को कसके रस ले लेकर जीभ डालकर पीने लगा। वो औरत मचलने लगी। गाण्ड उछालने लगी। मैंने उसकी दोनों टाँगों को कसके पकड़ लिया और चूत का छेद पीने लगा। मैं जान भुजकर अपनी जीभ से नुकीली रगड़ देने लगा। फिर कजरारी बुर के दोनों पटों को दोनों होंठभर भरके पीने लगा।। थोड़ा उसके मूत की 2 4 बुँदे भी पी गया। हल्की हल्की झांटों में बुर का सौंदर्य अप्रतिम था। मन हुआ की छिनाल को चोदूँ वोदु नही, बस लेटकर बुर को ही देखता रहूँ।

घण्टा भर हो गया। सर्दी की रात में अब रात के 9 बजने को आये। ठंड बढ़ चली।
भाई जल्दी चोदूँ छिनाल को!! मुझे ठंड लग रही है! सत्यम बोला
सत्यम! मेरे भाई! जिसके पास है लण्ड, उसे कभी नही लग सकती ठण्ड! मैंने कहा और फिर उस औरत की बुर पे सिर गिराके पीने लगा। वो औरत तो अब सायद मजा लेने लगा। मैंने सिर उठाकर देखा अब वो चुप थी, जरा भी नही रो रही थी।
अच्छा है! मैंने कहा और बुर पीने लगा।

जादा क्या मजे लेना, ये सोचकर मैंने अपना उफनता लण्ड डाल दिया राण्ड के कजरारे भोंसड़े में। और गाचागच राण्ड को पेलने लगा। उस औरत से आँखे मुंड ली। मुझे प्यार आ गया इस अदा पर, भारतीय औरत अपने मर्द से पेलवाए और किसी और से आँखे जरूर मूँद लेती है। मुझे प्यार आ गया। मैंने भी आँखे मूँद ली और पेलते हुए ईस्वर का ध्यान करते हुए भजन करने लगा। मैं पकापक उस दूसरे कीे मॉल को पेलने लगा। दाने दाने पर लिखा और खाने वाले का नाम , हर चूत में लिखा है चोदने वाले का नाम, तभी तो ये चिड़िया हमारे जाल में फस गयी। उस गजब की औरत की चूड़िया और पायल खन खन करके आवाज कर रही थी। मैं इसी आवाज के लिए तरस रहा था।

मैं और जोर जोर से धक्के मारने लगा। उसकी चूड़िया और जादा हिलने लगी, और आवाज करने लगी। मेरा लण्ड और टाइट हो गया और कस कस के उसकी कजरारी बुर की फाके फाड़ने और खोंलने लगा। जाड़ों में तो बस गरम चूत का ही सहारा रहता है। वरना आदमी तो मर ही जाए। चाह्ये मीट मुर्गा ना मिले बस हर रात चूत मिलती रहे। मैं जाना। जोरदार धक्कों से उसके पेट की उभरी हुई चर्बी ऊपर नीचे लपर लपर करके हिलने लगी। मुझे प्यार आ गया और जोर जोर से हरामिन को चोदने लगा। दोनों पूड़ी की तरह फूली छातियाँ फटाफट हिलने लगा।

इसके बाद जरूर पढ़ें  मेरा सौतेला बाप

इस सौंदर्य को पाकर मैं नतमस्तक हो गया। और मेहनत से चोदने लगा। बड़ा गोस सा छिनाल के बदन में। गोरा सफ़ेद मांस ही मांस ऊपर से नीचे तक। भरी भरी गोल गोल जांधे , गुद्दीदार चूत। मैं अपने दोनों चुत्तरो सेे कूद कूदकर साली को लेने लगा। उसकी साँसे टंग गयी। मैं नॉनस्टॉप पेलता, चोदता रहा। 35 मिनट की जी तोड़ मेहनत के बाद मैंने राण्ड की चूत में पानी छोड़ दिया।
सत्यम!!।आ भोसड़ी के!! ले आके इसको!! इसकी चूत को ले लेकर रोशन कर दे! इसकी जवानी को सलाम कर आके भाई! मैंने अपने नँगे ठंड में हाथ में लण्ड लेकर काँपते भाई से कहा। मैंने कपड़े नही पहने बस दूसरी चारपाई पर चला गया। रजाई खींच के लेट गया। सुस्ताने लगा।

सत्यम आया और सीधे छिनार की बुर की फाकों के बीच लण्ड सैंडविच की तरह रखा और मार दिया गच से। लण्ड अंदर और छिनार के पेट की चर्बी बाहर। मेरा भाई चोदने लगा छिनार को। मैंने सिर के नीचे हाथ रखकर लेट गया और अपने सगे भाई से चुदती उस औरत के मुख को देखने लगा।
कितनी किस्मतवाली है रंडी!! ठंड में 2 2 लण्ड पा गयी। जिंदगी भर दीपक लेकर ढूंढती तो भी नही पाती। जिंदगी भर आज की रात की रंगरलिया सोच सोचकर अपनी चूत में ऊँगली डालकर मुठ मारेगी। मैं मन ही मन उस अनजानी औरत के चुदते लाल मुख के सौंदर्य को देखकर खुद से कहा। मेरे भाई से उसका मस्त चोदन किया। पूरा घड़ी देखकर 50 55 मिनट चोदा रंडी को और चूत का चौराहा बना दिया। सत्यम हटा, तब तक मेरा लण्ड फिर गन्ने की तरह तैयार था।

सत्यम मेरी चारपाई पर आ गया। 10 मिनट का आराम मैंने दिया छिनाल को और फिर साली को चारपाई पर घुमाकर कुतिया बना दिया। भाई! ऊपर से नीचे तक बदन में बस गोश ही गोस। जैसा जब कस्टमर मुर्गा लेने जाता है तो गोसदार मुर्गा की लेता है वैसे मैं बेहद खुश हो गया। पहले तो मैंने उसको कुतिया बनाकर एक बार और चूत मारी। फिर ढेर सारा थूक अपने लण्ड में मलकर उनकी गाण्ड में पेल दिया और मजे से चोदने लगा।

छिनाल की गाण्ड बड़ी कसी थी। खूब देर गाण्ड चोदी। फिर सत्यम आ गया। रंडी को पूरी रात हम दोनों भाइयों ने खूब खाया। सुबह उनके हाथ में 500 का नोट हमने थमा दिया। रंडी ऐसी गायब हुई की आज तक दोबारा नही दिखाई दी। फिर रात में हम दोनों ने अपने खेत में हगने आयी कई लड़कियों औरतों को उसी झोपडी में लालटेन की रौशनी में पेला।



Xxxse आ उ ई आ उ उ आ ईmummy ko grandpa ney jabardasti black mail kar sex stories new/wife-swaping-sex-story-in-hindi/Chuddakar boor sas Ke sexPaise ke liya shadishuda didi ko chodabetikisexstoriessuagrat saj xxxx. hindi vidoebudda.admi.s.biwi.ki.chudi.hinde.kahaniyaxxxwwwbuaMeri biwi ki family ko choda -1hindi adewase cudai storyAntarvasna chudai ke liyee choti koBhabi ki chudai storyshadi me chudaiWakil ne choda all Hindi kahaniबहन को चुदते देखा स्टोरीsex kahaniChuddai nyty me buaa ki videochote devar se pregnant hui sex story xxx hot sexy sil todne or jor se ahh chilane ki kahaniapni 14 salbhn ko chodaSex holi madey hindi kahaniSunny kieon bara sa lund ka photo SexySuhagrat story bhasur parosan or batiचुत सेकसी कहानीmaa ko ghas pe storyचलती ट्रेन में भाई बहन की सेक्सी वीडियो पोर्नबहन को पैन में चोदा हिंदी सेक्सी कहानियांमा बेटा का सेकसी बङा लड बालाbiwi ke marne ke bad maa se sadi ki xxx storyचाची के चाचा नहिते चोदMaa beta sex by mistec khaniचोदो।तो।पेल।बूबा।मे।लड।डाला।चोदाFamily sex story in hindi buamaa Madison NE chose sex videokarj hindi sex storiesmaine sb ko khush kiya peli rbt me papa ko dusre raat me bhai konew dasi sax kahaniya vidva dede bhiyaएक बूढे आदमी कि सेकस कहानीधर्मशाला में की मम्मी की चुदाईxxx bidhva की हवस jbri सेक्स हिंदीhotsexstory.xyz ajnabi ne kali se phool banayaxx hide storyराड की चुदाइटिचर ने चूतका सील तोडाhindi sex story najayajBhai se chudi boss समझकर भाई सी चूड़ी सेक्सी स्टोरीdibali me cudane ki kahanidilbar naukar Malkin hindi xossip sex storiesBhan ne bhai gad me pelo xxxfuch fuch pelate xxx kahaniचुदायी कैसे की जाती है58saal ki dadi ki chudaijaan sxey kahani imgaeMami ne doctor ko dikhakr bhanje se chudai ki kahaniDost ki sister ki chudi antervashnanani mosi ke gand chaduaiमामा भांजी खेत चुदाई कहानीसहेली के बेटा से चुदाई asfalt32.ruma bahan ko sex kahani hindiहसीन पत्नी पड़ोसी से चुदवाईSexstoreyhindiXxxgarmi me chacha ne maa ko chofaबहन के चुत का भोसड़ा बनवाया नीग्रो से हिंदी कहानीअंतरवाशना माँ की चुदाई सगे बेटे से रातUncle ne maa ko barsat pe chodamastram new storiHo Jawan Ho sasur Budha Ho chudai video devidhwa patni ko chadha chudai ka chaska kahaniजीजा साली बहन बहनोई बीवी की अदला बदलीआआआआहह।Sushma naukrani kamwali x videoनोकरानी और उसकी बहने सेक्स स्टोरीबुर मे मे लँड डालके गप गप पेलना है कहानीthakur sahab ki kuwari vidhva bahu ki seal band chudai kahani